चाणक्य

28/02/2017 prince 0

​ हमें भूत के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए,  ना ही भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए;  विवेकवान व्यक्ति हमेशा वर्तमान में जीते हैं